प्रजा अधीन राजा समूह | Right to Recall Group

अधिकार जैसे कि आम जन द्वारा भ्रष्ट को बदलने/सज़ा देने के अधिकार पर चर्चा करने के लिए मंच
It is currently Sun Nov 19, 2017 8:41 am

All times are UTC + 5:30 hours




Post new topic Reply to topic  [ 1 post ] 
SR. No. Author Message
1
PostPosted: Tue Sep 23, 2014 6:35 pm 
Offline

Joined: Sun Sep 12, 2010 2:49 pm
Posts: 596
(Scroll Down for English)

बिकाऊ और भ्रष्ट मीडिया की समस्या कम करने के लिए - राइट टू रिकॉल दूरदर्शन अध्यक्ष (चैयरमेन) -

प्रिय नागरिक ,

राइट टू रिकॉल दूरदर्शन अध्यक्ष (चैयरमेन) यह सुनिश्चित करेगा कि कोई मीडिया चैनल सच को न दबाये | यह कानून पेड टाइम्स ऑफ़ इंडिया , पेड एन.डी.टी.वी., पेड आज तक, आदि पर लगाम लगाएगा | और सच का खुलासा होना शुरू होगा | पैसे लेकर नग्न मनोरंजन दिखाने पर रोक लगेगी | एक बार राइट टू रिकॉल आने पर मीडिया पर राजनैतिक प्रभाव खत्म होगा |

तो अगर आप मतदाता हैं और यह चाहते हैं कि राइट टू रिकॉल-दूरदर्शन अध्यक्ष भारत सरकार के राजपत्र में छपे तो एस.एम.एस या ट्विट्टर के द्वारा अपने संसद को निम्न आदेश भेजे -

" Kripya is draft ka badhava va maang website, niji bil aadi dwara karein. Draft - tinyurl.com/RtrDdAdhyaksh Varna apko aur apki party ko vote nahin karenge. Kripya smstoneta.com jaise public sms server banayein jismein logon ki SMS dwara raay unke voter ID ke saath sabhi ko bina login dikhe"

=====

प्रिय सांसद,

यदि आपको यह यू.आर.एल. मिला है एस.एम.एस. द्वारा, तो कृपया भेजने वाले मतदाता की ओर से इसे आदेश समझें (न कि जिसने ये पोस्ट लिखी है)

कृपया राईट टू रिकॉल दूरदर्शन अध्यक्ष क़ानून-ड्राफ्ट भारतीय राजपत्र (सरकारी आदेश) में छपवाएं | ड्राफ्ट निम्नलिखित है -

========= ड्राफ्ट की शुरुआत =======

1. नागरिक शब्द एक पंजीकृत मतदाता होगा।

2. ( जिला कलेक्टर को निर्देश ) … अगर कोई मतदाता दूरदर्शन अध्यक्ष (चैयरमेन) बनाना चाहता है तो वह व्यक्ति जिला कलेक्टर के सामने स्वयं या किसी वकील के माध्यम से एफिडेविट (शपथ पत्र) के साथ उपस्थित होगा | कलेक्टर या उसके द्वारा नियुक्त व्यक्ति अर्जी स्वीकार करके जमा राशि लेगा और उसका नाम `दूरदर्शन अध्यक्ष उम्मीदवार` के रूप में प्रधानमंत्री की वेबसाईट पर रखेगा | जमा राशि सांसद के चुनाव के लिए दी जाने वाली राशि के सामान होगी |

3. ( तलाटी (= लेखपाल = पटवारी) या तलाटी के क्लर्क को निर्देश ) … उस जिले का नागरिक अगर तलाटी के कार्यालय में आकर, 3 रूपया शुल्क देकर, दूरदर्शन चैयरमेन के उम्मीदवारों में से अधिकतम 5 नामो के लिए मंजूरी देगा तो तलाटी उन नागरिक की राय कंप्यूटर में दर्ज करके उस मतदाता को एक रसीद देगा जिसमें नागरिक की वोटर आईडी, समय-तारीख और पसंद किये गए उम्मीदवारों के नाम होंगे | बाद में, इस सिस्टम में एस.एम.एस. भेजने का सिस्टम में डाला सकता है, जिससे एक बार राय देने का खर्च नागरिक को 10 पैसे होगा |

4 (तलाटी को निर्देश ) … तलाटी नागरिकों की राय जिले की वेबसाइट पर उनके मतदाता पहचान पत्र के साथ रखेगा |

5 ( तलाटी को निर्देश ) … अगर नागरिक किसी स्वीकृति को रद्द करने आता है तो तलाटी बिना शुल्क लिए उसकी मंजूरी में से एक या अधिक नाम रद्द कर देगा |

6 . ( कैबिनेट सचिव को निर्देश ) ... हर महीने की 5 तारीख को कैबिनेट सचिव नागरिकों की राय प्रधानमंत्री वेबसाइट पर जारी करेगा | यह राय पिछले महीने की आखिरी तारीख तक की होगी |

7. ( प्रधान मंत्री को निर्देश ) … अगर किसी उम्मीदवार को प्रधानमंत्री वेबसाइट पर सभी नागरिकों के 35 % समर्थन मिलते हैं (सभी, न कि केवल जिन्होंने अपना अनुमोदन दिया है) और वर्तमान अध्यक्ष से 1% अधिक समर्थन मिलते हैं, तो प्रधान मंत्री चाहे तो वर्तमान दूरदर्शन अध्यक्ष को हटाकर, नागरिकों द्वारा चुने गए उम्मीदवार को दूरदर्शन अध्यक्ष बना सकते हैं या प्रधानमंत्री को ऐसा करने की कोई आवश्यकता नहीं | प्रधान मंत्री का फैसला अंतिम होगा |

8. जनता की आवाज धारा 1 ( जिला कलेक्टर को निर्देश ) … अगर कोई नागरिक इस कानून या इसकी कोई धारा में बदलाव चाहता है तो वह अपना 20 रुपये प्रति पन्ने के एफिडेविट (शपथ पत्र/हलफनामा) को जिला कलेक्टर के सामने प्रस्तुत करेगा | क्लर्क उस एफिडेविट को नागरिक के वोटर आई.डी. नंबर के साथ प्रधान मंत्री की वेबसाइट पर स्कैन करेगा ताकि उसको बिना लॉग-इन के सभी देख सकें |

9. जनता की आवाज धारा 2 ( पटवारी ( = लेखपाल = तलाटी ) को निर्देश ) … अगर कोई नागरिक इस क़ानून पर या इस क़ानून के किसी धारा पर अपना विरोध दर्ज करवाना चाहता है या उपरोक्त धारा के अनुसार दर्ज एफिडेविट के किसी धारा पर अपनी हाँ या ना दर्ज करवाना चाहता है, तो वह तलाटी के ऑफिस में वोटर आईडी के साथ आएगा, 3 रूपया फीस देगा और अपनी हां ना दर्ज करवाएगा | तलाटी उसे एक रसीद देगा और नागरिक की हाँ / ना को प्रधानमंत्री की वेबसाइट पर, नागरिक के वोटर आई.डी. नंबर के साथ डालेगा |

======= ड्राफ्ट का अंत ===============

========================

अधिक जानकारी के लिए http://smstoneta.com/prajaadhinbharat/chapter-6/ देखें (डाउनलोड लिंक - http://www.righttorecall.info/301.h.pdf , चैप्टर 6)|

संक्षिप्त प्रक्रियाओं के लिए http://www.righttorecall.info/011.h.htm देखें (प्रश्नोत्तरी के लिए - http://www.righttorecall.info/007.h.htm देखें) |

===================================

Right to Recall Doordarshan Chairman - to reduce political power of paid media

Dear Citizen,

Right to Recall Doordarshan will ensure that Doordarshan starts revealing all relevant truths. So paidmedia channels such as paid-TimesNow, paid-NDTV etc etc will no longer get paid to suppress the truths. And with that, the money they have to fund all nude entertainment will reduce, In any case, the ability of paidmedia to influence politics will drastically reduce once right to recall doordarshan chairman comes.

So If you, the voter if India, wish RTR-DD-Chairman law-draft to get printed in Gazette,. then please send following order to MP via SMS or twitter -

"Please promote this draft - tinyurl.com/RtrDdAdhyaksh via your website, private member bill etc. and get it printed in gazette. Or will not vote for you/your party. Also, set up a public sms server like smstoneta.com so that SMS-opinions of all citizens, along with their voter IDs, can be seen by all "

=====

Dear MP,

If you got the url to this status via SMS, then please consider it as order from the voter who sent you the SMS. (not from the author of this status).

Please print Right to Recall Doordarshan Chairman law-draft in Gazette. The draft is as follows.

===== start of draft ==========

1. The word citizen would mean a registered voter

2. ( instruction to District Collector ) .... If any citizen of India wishes to become DDC (Doordarshan Chairman) , and he appears in person or via a lawyer with affidavit before the District Collector, the Collector would accept his candidacy for DDC after taking filing fee same as deposit amount for MP election and put his name as DDC candidate on PM website.

3. (instruction to Talati (= Village officer = Patwari = Lekhpal), or Talati’s Clerks) .... If a citizen of that district comes in person to Talati’s office, pays Rs 3 fee , and approves at most five persons for the DDC position, the Talati would enter his approvals in the computer and would give him a receipt with his voter-id#, date/time and the persons he approved. Later the system can be extended to sms after which cost of giving an opinion will be 10 paise for the citizen.

4. ( instruction to Talati ) ..... The Talati will put the preferences of the citizen on district’s website with citizen’s voter-ID number and his preferences.

5. (instruction to Talati) ...... If a the citizen comes to cancel his Approvals, the Talati will cancel one or more of his approvals without any fee.

6. (instruction to Cabinet Secretary) ...... On every 5th of month, the CS may publish Approval counts on PM website for each candidate as on last date of the previous month.

7. (instruction to PM ) ...... If a candidate gets approval of over 35% of ALL registered citizen-voters (ALL, not just those who have filed their approval) and 1% more approvals than present chairman, then PM may or need not expel the existing DDC and may or need not appoint the person with highest approval count as DDC. The decision of PM will be final.

8. Citizens` Voice 1 (CV 1) ( instruction to District Collector ) ...... if any citizen wants a change in this law-draft, he may submit an affidavit at Collector’s office and Collector or his clerk will scan the affidavit along with voter ID number of the citizen onto the website of Prime Minister for a fee of Rs 20/- per page, so that all can see the same without logging-in.

9. Citizens` Voice 2 (CV 2) (instruction to Talati or Patwari) ..... If any citizens want to register his opposition to this law-draft or any section or wants to register YES-NO to any affidavit submitted in above clause, and he comes to Talati’s office with voter-ID and pays Rs 3 fee, Talati will enter YES/NO and give him a receipt. The YES-NO will be posted on the website of the Prime Minister along with voter ID number of the citizen.

===== end of draft ==========

For detailed explanation, please see chapter 10, http://www.3linelaw.wordpress.com (download link - http://www.righttorecall.info/301.pdf , chapter 10)

For summary, see http://www.righttorecall.info/011.htm (For FAQs please see - http://www.righttorecall.info/007.htm)


Top
 Profile  
 
Display posts from previous:  Sort by  
Post new topic Reply to topic  [ 1 post ] 

All times are UTC + 5:30 hours


Who is online

Users browsing this forum: No registered users and 1 guest


You cannot post new topics in this forum
You cannot reply to topics in this forum
You cannot edit your posts in this forum
You cannot delete your posts in this forum
You cannot post attachments in this forum

Search for:
Jump to:  
cron
Powered by phpBB® Forum Software © phpBB Group